Monday, 18 September 2017

निराकार का अंश।

साकार तू है
तो क्या हुआ।
निराकार का तू अंश है।।
निर्भीक बन
तू आगे बढ़।
चाहे सामने तेरे
क्यों ना कोई कंस है।।
------
द्वंद है, विध्वंश है
संकट में जो धर्म है।
तब मन में लिए प्रश्न तू,
अर्जुन नही
कृष्णा का तू अंश है
------


3 comments:

Detachment is luxury, Attachment is prison.

Few years ago I read a story of "Lota Baba". Today I want to share it with everyone. There was a sanyasi, who was known as Lota B...