Monday, 18 September 2017

निराकार का अंश।

साकार तू है
तो क्या हुआ।
निराकार का तू अंश है।।
निर्भीक बन
तू आगे बढ़।
चाहे सामने तेरे
क्यों ना कोई कंस है।।
------
द्वंद है, विध्वंश है
संकट में जो धर्म है।
तब मन में लिए प्रश्न तू,
अर्जुन नही
कृष्णा का तू अंश है
------


3 comments:

How to get closer to your Goals

Tips For Getting Closer To Your Goals And Achieve Them Too! A goal is a cup of caffeine that we wish to taste every morning; if this i...